Popular Posts

Sunday, September 16, 2018

हिंदी न्यूज़ – facts and information about political-strategist-to-politician-prashant kishor


चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने अपने पॉलिटिकिल करियर का आगाज कर दिया है. तीन साल पहले जेडीयू के लिये चुनावी प्रचार की रणनीति बनाने वाले प्रशांत किशोर ने उसी पार्टी का दामन थामा जिसको  लेकर कयास चल रहे थे. भारत की राजनीति में चुनावी रणनीतिकार के नाम से मशहूर पीके उर्फ प्रशांत किशोर इंडियन पॉलिटिकल एक्शन कमेटी नाम का संगठन चलाते हैं जो चुनाव में पार्टियों की जीत सुनिश्चित करने के लिए काम करती है. न्यूज 18 हिन्दी आपको बता रहा है पीके के अब तक के सफर से जुड़ी 15 खास बातें.

1. 41 साल के प्रशांत किशोर का जन्म 1977 में बिहार के बक्सर जिले में हुआ हालांकि वो मूल रूप से रोहतास जिला के रहने वाले हैं.

2. प्रशांत के पिता डॉ. श्रीकांत पांडे पेशे से चिकित्सक हैं और बक्सर में मेडिकल सुपरिटेंडेंट भी रह चुके हैं. वहीं मां इंदिरा पांडे हाउस वाइफ हैं. बक्सर के अहिरौली रोड में उनका मकान है हालांकि बक्सर में प्रशांत का परिवार कम ही रहता है.

3. प्रशांत किशोर दो भाई है जिनमें से बड़े भाई अजय किशोर का खुद का कारोबार है. प्रशांत किशोर की दो बहनें भी हैं.4. प्रशांत किशोर की शुरुआती पढ़ाई-लिखाई बिहार में ही हुई है. उन्होंने मैट्रिक की परीक्षा बक्सर से ही पास की और इंटर पटना से पास किया. इसके बाद आगे की पढ़ाई के लिये उन्होंने बिहार से बाहर का रूख किया.

5. बहुत कम लोग जानते हैं कि प्रशांत किशोर ने इंजीनियरिंग की भी पढाई की है. इंजीनयरिंग करने के बाद पीके हैदराबाद चले गए और तकनीकी शिक्षा हासिल की.

6. पीके ने पढ़ाई की इसके बाद उन्होंने यूनिसेफ में नौकरी ज्वाइन की और ब्रांडिंग का जिम्मा संभाला.

7. साल 2011 में प्रशांत किशोर भारत लौटे तो उनकी पहचान गुजरात के चर्चित आयोजन ‘वाइब्रैंट गुजरात’ से हुई. वो न केवल इस आयोजन से जुड़े बल्कि इस आयोजन की ब्रांडिंग का जिम्मा भी खुद संभाला.

8. 2011 में इस सफल आयोजन के बाद वो वहां के सीएम नरेंद्र मोदी के काफी करीबी बन गये और इसका फायदा उन्हें 2014 के चुनाव में मिला.

9. 2014 के लोकसभा चुनावों से पीके की पहचान बनी. इस चुनाव में उन्होंने भाजपा के लिए काम किया और भाजपा समेत एनडीए की बड़ी जीत के लिए प्रशांत किशोर की चुनावी रणनीति को श्रेय दिया गया.

10. 2014 के लोकसभा चुनाव में पीके ने प्रचार के लिये ‘चाय पर चर्चा’ और ‘थ्री-डी नरेंद्र मोदी’ का कंसेप्ट दिया. ये दोनों अभियान काफी सफल रहे और नतीजन बीजेपी सत्ता तक पहुंची.

11. साल 2015 में बिहार विधानसभा के चुनाव में प्रशांत किशोर ने एनडीए को छोड़ कर महागठबंधन के लिए काम किया और यहां भी वो जीत दिलाने में सफल रहे.

12. प्रशांत किशोर हमेशा से नीतीश के करीबी माने जाते रहे हैं शायद यही कारण है कि उन्हें पार्टी ने पहले ही कैबिनेट स्तर के मंत्री का दर्जा और सुविधाएं मिली.

13. प्रशांत किशोर के जेडीयू में शामिल होने के बाद अंदरखाने से जो खबर आ रही है उसके मुताबिक बक्सर सीट से जेडीयू उनको मौका दे सकती है हालांकि इसके बारे में अभी कोई आधिकारिक जानकारी नहीं मिल सकी है.

14. प्रशांत किशोर ब्राह्मण जाति से आते हैं ऐसे में जेडीयू में इंट्री के बाद पार्टी की नजर सवर्णों के वोट बैंक पर ही है.

15. प्रंशात किशोर को पीके के नाम से भी जाना जाता है. बीजेपी के प्रचार में ‘मोदी लहर’ का नारा और अबकी बार.. मोदी सरकार जैसे स्लोगन देने का श्रेय उन्हीं को जाता है.





Source link

The post हिंदी न्यूज़ – facts and information about political-strategist-to-politician-prashant kishor appeared first on OSI Hindi News.



0 Comments:

Post a Comment