Most Popular

Thursday, October 11, 2018

हिंदी न्यूज़ – अलीगढ़ एनकाउंटर: ‘‘सच छिपाने को बजरंग दल का इस्तेमाल कर रही है पुलिस’’, Aligarh encounter, allegation of pankhuri pathak on aligarh police


‘‘अतरौली, अलीगढ़ पूरी तरह से बजरंग दल के कंट्रोल में है. पुलिस इन अपराधियों का इस्तेमाल कर रही है फेंक एनकाउंटर का सच छिपाने के लिए. अतरौली हमले की एक और विडियो सामने आई है. एक पेशेवर अपराधी मेरी गाड़ी पर ईंट मारता दिख रहा है.

सवाल ये है कि एक अपराधी जिस पर कोर्ट द्वारा गैर ज़मानती वारंट निकला हो वह पुलिस के सामने कैसे घूम रहा है. ऐसे अपराधियों को जेल क्यों नहीं भेजती उत्तर पुलिस.’’ ये कहना है सपा की पूर्व प्रवक्ता पंखुड़ी पाठक का.

न्यूज18 हिन्दी से बात करते हुए पंखुड़ी पाठक ने कहा कि, ‘‘मैंने सोमवार को दिल्ली के मायापुरी थाने में अतरौली हमले से संबंधित एक शिकायत दी थी. (ज़ीरो एफआईआर कहीं भी दर्ज कराई जा सकती है.) डीजीपी, यूपी पुलिस को भी शिकायत भेजी थी.

ये भी पढ़ें- अलीगढ़ एनकाउंटर: नौशाद और मुस्तकीम की मां का आरोप- लड़कों को घर से उठा ले गई थी पुलिसडर के चलते मैंने यूपी के थाने में शिकायत दर्ज नहीं कराई थी. लेकिन मेरी शिकायत पर न तो दिल्ली पुलिस कोई कार्रवाई कर रही है और न ही डीजीपी ने कोई संज्ञान लिया है.’’

ये भी देखें- अलीगढ़ एनकाउंटर: देखें कैसे दौड़ा-दौड़ा कर पीटा पंखुड़ी पाठक और उनकी टीम को

फाइल फोटो- भीड़ से बचने की कोशिश करता एक युवक.

वहीं पंखुड़ी पाठक का कहना है, ‘‘घटना वाले दिन मैंने अतरौली से ही डॉयल 100 पर भी पूरी सूचना दी थी. कानूनी हिसाब से उस शिकायत के आधार पर भी एफआईआर दर्ज हो जानी चाहिए. लेकिन अभी तक ऐसा नहीं हुआ है. मैं अपनी शिकायत लेकर अब कोर्ट जा रही हूं.’’

ये भी पढ़ें- अलीगढ़ एनकाउंटर: 6 साल का लड़का कैसे चला सकता है तमंचा

पंखुड़ी ने मायापुरी थाने में जो शिकायती पत्र दिया है उसके अनुसार बीते शनिवार को वह अलीगढ़ एनकाउंटर में मारे गए दो युवकों के परिवार वालों से मिलने गईं थीं.

ये भी पढ़े- अलीगढ़ एनकाउंटर: पुलिस की कौन सी कहानी सच्ची

इसी दौरान उन्हें भीड़ ने घेर लिया. गाली-गलौज करते हुए भीड़ ने पथराव शुरु कर दिया. उन्हें जान से मारने की कोशिश की. बलात्कार करने की धमकी दी. गाड़ियां तोड़ दी गईं. साथ गए कुछ लोगों के साथ मारपीट की गई.

फाइल फोटो.

ये भी पढ़ें- अलीगढ़ एनकाउंटर: पुलिस का कारनामा, एक मर्डर केस के दो खुलासे

इस बारे में सर्किल अफसर (सीओ) प्रशांत सिंह का कहना है, ‘‘पंखुड़ी पाठक ने हमे कोई शिकायती पत्र नहीं दिया है. सिर्फ डॉयल 100 की सूचना को ही आधार नहीं बनाया जा सकता है. पीड़ित का होना जरूरी है. घटना वाले दिन कोई भी अपराधी हमारे सामने नहीं घूम रहा था. पाठक बिना बताए वहां पहुंची थीं, इसलिए ये घटना हो गई.’’

ये भी देंखे- तो क्या लाइव एनकाउंटर में फोटो खिंचाने गई थी अलीगढ़ पुलिस?





Source link

The post हिंदी न्यूज़ – अलीगढ़ एनकाउंटर: ‘‘सच छिपाने को बजरंग दल का इस्तेमाल कर रही है पुलिस’’, Aligarh encounter, allegation of pankhuri pathak on aligarh police appeared first on OSI Hindi News.



0 comments:

Post a Comment