हिंदी न्यूज़ – चुनावों में आचार संहिता का उल्लंघन नहीं कर पाएंगे नेता, नजर रखने के लिए EC ने बनाया एप-Politicians will not be able to violate code of conduct in elections, EC made APP to monitor


चुनाव के दौरान नेताओं की तरफ से रुपये, कपड़े और शराब बांटने की खबरें आती ही रहती हैं. चुनावी माहौल में जनता को लुभाने के लिए नेता तरह-तरह के तोहफे बांटते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि ऐसा करना चुनाव के नियमों के खिलाफ है. चुनावी आचार संहिता लागू हो जाने के बाद कोई भी नेता जनता को तोहफे नहीं दे सकता है. ऐसा करने पर उस नेता को चुनाव के लिए अयोग्य भी घोषित किया जा सकता है.

मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और मिजोरम में नवंबर-दिसंबर में होने वाले विधानसभा चुनावों को देखते हुए चुनाव आयोग ने एक ऐप तैयार की है.  C-VIGIL नाम के इस ऐप की मदद से नागरिक चुनावी आचार संहिता का उल्लंघन करने वाले नेताओं की शिकायत कर सकते हैं.

मायावती की मांग बीजेपी को मध्य प्रदेश में आसान जीत देगी: कमल नाथ

कैसे काम करेगा यह ऐप?चुनाव के दौरान कोई भी नेता या पार्टी यदि शराब, कंबल, कपड़े, बर्तन, रुपये या तोहफे बांटते नजर आते हैं तो नागरिक उनकी शिकायत इस ऐप की मदद से कर सकते हैं. यह ऐप डाउनलोड करने के बाद नागरिक को अपने फोन नंबर या मेल आईडी की मदद से उसमें रजिस्टर करना होगा. नागरिक अपनी शिकायत के सबूत के तौर पर इस ऐप पर फोटो और वीडियो भी अपलोड कर सकते हैं. शिकायत के बाद नागरिक को एक ग्रीवांस नंबर दिया जाएगा जिसकी मदद से वह अपनी शिकायत के स्टेटस को भी जान सकेंगे.

सी विजिल ऐप

शिकायत अपलोड होने के बाद सी विजिल का सिस्टम अपने स्तर पर इसकी जांच करेगा. इस सिस्टम में एक बार शिकायत स्वीकृत होने पर जिला नियंत्रण कक्ष में इसकी सूचना पहुंच जाएगी. यहां से सचल दस्ते को कार्रवाई का निर्देश भेजा जाएगा.

2019 का सेमीफाइनल: इन 4 राज्यों में किसकी बनेगी सरकार, किसका बिगड़ेगा खेल!

चुनाव आयोग को क्यों जरूरत पड़ी इस ऐप की?
चुनाव आयोग के अनुसार अब तक आचार संहिता के उल्लंघन की खबरें तो देर से मिलती थी, जिस कारण दोषी सजा से बच जाते थे. इसके अतिरिक्त तस्वीरों एवं वीडियो जैसे साक्ष्यों में कमी की वजह से भी शिकायतों को साबित करने में परेशानी होती थी. आयोग की तरफ से जारी एक विज्ञप्ति में बताया गया कि जांच के बाद अधिकतर शिकायतें गलत पाई जाती थीं. आयोग के मुताबिक रियल टाइम पर शिकायत मिलने और रियल टाइम पर ही उसकी प्रोसेसिंग होने से शिकायतों के निवारण में तेजी आएगी.

गौरतलब है कि पांच राज्यों मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, मिजोरम और तेलंगाना में नवंबर-दिसंबर में विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं. चुनाव आयोग इन पांचों राज्यों में चुनाव की घोषणा कर चुका है. सी-विजिल ऐप के अतिरिक्त आयोग इन राज्यों में राष्ट्रीय शिकायत सेवा, इंटीग्रेटेड कॉन्टैक्ट सेंटर, सुविधा, सुगम, इलैक्शन मॉनीटरिंग डैशबोर्ड और वन वे इलैक्ट्रॉनिकली ट्रांसमिटेड पोस्टल बैलट जैसे ऐप्स का भी उपयोग करेगा.

ये भी पढ़ें: आचार संहिता लगने के बाद राष्ट्रीय अध्यक्ष का बस्तर में होगा पहला चुनावी दौरा

 





Source link

The post हिंदी न्यूज़ – चुनावों में आचार संहिता का उल्लंघन नहीं कर पाएंगे नेता, नजर रखने के लिए EC ने बनाया एप-Politicians will not be able to violate code of conduct in elections, EC made APP to monitor appeared first on OSI Hindi News.



Share:

Support