2014 में कांग्रेस का पतन कैसे और क्यों हुआ??

2014 में कांग्रेस का पतन कैसे और क्यों हुआ??

▪आपको याद होगा एक बार मुकेश अंबानी ने कहा था कि कांग्रेस और बीजेपी उनकी दो दुकानें है जो उनकी जेब मे रहती हैं। अंबानी के इस बयान के बाद 2004 मे कांग्रेस ने उसको घुटनो पर बिठा दिया और 10 साल पीएमओ मे घुसने नहीं दिया। ▪अपने इस अपमान का बदला लेने के लिए मुकेश अंबानी ने एक षङ्यंत्र रचा। ▪ सबसे पहले उसने रामदेव के योग शिविरों से काले धन का प्रचार करवाया, ▪ फिर महंगाई पेट्रोल डीजल और रसोई गैस पर बीजेपी से धरना प्रदर्शन करवाया और इस आग में अन्ना हजारे के आंदोलन ने पेट्रोल का काम कर दिया। ▪इन कारणों से देश मे कांग्रेस के खिलाफ माहौल बनता गया, मुकेश अंबानी की यह साजिश कांग्रेस समझ नहीं पाई। ▪ मुकेश अंबानी ने सबसे पहले मोदी को पीएम पद के लिये सेट करवाया अरुण शौरी और जेठमलानी को बीच मे रख कर, उसके बाद *मोदी ने हर रैली मे कांग्रेस को भ्रष्ट बताना शुरू किया। मुकेश अंबानी ने मोदी को पीएम बनाने के लिए कुछ कारपोरेटस की मदद ली और अकूत धन खर्च कर सारा मीडिया खरीदा और ईवीएम हैकर लगाये। मोदी से धुआंधार प्रायोजित रैलियां करवाई जाती रही, ताकि रैलियों की भीड़ देखकर जनता और विपक्ष को ईवीएम हैकिंग पर शक न हो। इस तरह मुकेश अंबानी अपने मकसद में कामयाब हो गया। ▪ कांग्रेस सरकार मे घुटने के बल चलने वाले "कारपोरेटस ने" मोदी से नोटबंदी करवाई.. ▪जिसका सबसे ज्यादा फायदा उद्योगपतियों को हुआ, सबके लोन माफ हो गये और सारा काला धन सफेद हो गया।उद्योगपतियों की घाटे मे चल रही दुकाने 4 साल में ऐसी चमकी कि "अमित शाह के लौंडे जय शाह ने 50 हजार की कंपनी से 1 साल मे 80 करोड़ बना लिये।"कहने का मतलब यह है कि नरेन्द्र मोदी देश का पीएम-वीएम कुछ नहीं....ये अंबानी और चंद कारपोरेटस की साज़िश का एक मोहरा भर है। अगर ये अपनी काबिलियत के दम पर पीएम होता तो देश के हित में 1-2 काम तो करता।किसानों, जवानों, महिलाओं और छात्रों को रुलाता नहीं।देश मे महंगाई कम करता और पेट्रोल डीजल व रसोई गैस के दाम न बढ़ाता, बेरोजगार नौजवानों को रोज़गार भी देता, ▪*ना की चाय,* पकौड़ा, पान और पंक्चर* बनाने की बात करता पर ये करे भी तो कैसे?* ▪ इसका रिमोट तो अंबानी के हाथ में है इसलिये ये सारा फायदा उसी को पहुंचा रहा है, क्योंकि नोट तो इसको उसी ने दिया है। उससे साबित होता है कि पूरी सरकार तो अंबानी चला रहा है ये तो सिर्फ सिग्नेचर करता है यहां तक कि इसका ट्वीटर एकाउंट भी नीता अंबानी चलाती है। इस खेल को समझिए ..!! CBI के “दम” पर चल रही, इस सरकार का "अंतिम” कर्मकांड CBI के हाथों से ही होगा..!!
Powered by Blogger.